SEO Kya Hai | Search Engine Optimization

SEO Kya Hota hai – हेलो दोस्तों , आज मैं आपको SEO (Search Engine Optimization) के बारे में बताऊंगा. जैसा कि आप जानते हैं कि सभी ब्लॉगर्स को seo के बारे में जानकारी नहीं के बराबर होती है और वे जानते हैं कि SEO (Search Engine Optimization) कितना महत्वपूर्ण है. चाहे वह नया ब्लॉगिंग यूजर हो या पुराना यूजर, लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि हमे सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन पर ध्यान देना भी जरुरी है.

ब्लॉगिंग की शुरुआत के रूप में सभी ब्लॉगर seo के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं. क्योंकि जब ब्लॉग शुरू करते हैं तो उनका SEO पर कोई ध्यान नहीं होता है. आप जानते हैं क्यों क्योंकि वे नहीं जानते कि SEO (Search Engine Optimization) क्या है. किसी ब्लॉग या वेबसाइट को सर्च इंजन में रैंक करने के लिए SEO बहुत जरूरी है। तो आज मैं आपको इस पोस्ट में SEO के बारे में बताऊंगा। तो चलिए शुरू करते है.

Search Engine Optimization / SEO Kya Hai

सबसे पहले तो आपको SEO का पूरा नाम क्या होता है इसे जानने की जरूरत है. SEO का फुल फॉर्म सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन है. देखा जाये तो SEO एक ऐसा टूल है जिसकी हेल्प से आप अपनी किसी भी वेबसाइट या फिर ब्लॉग की पोस्ट्स को गूगल के  सर्च इंजन में भेज कर गूगल के पहले पेज पर दिखा सकते है. Google में इसी SEO से रिजल्ट आता है. जिस ब्लॉगर की SEO सबसे बेहतरीन होगी उसकी पोस्ट भी Google में बेहतर तरीके से रैंक करेगी।

seo kya hai | search engine optimization
SEO Kya Hai | search engine optimization

SEO कैसे काम करता है।

आपको सर्च इंजनो के बारे तो जानकारी होगी। गूगल,याहू, बिंग ये सभी सर्च इंजन ही होते है इनका काम भी SEO के हिसाब से ही होता हैं। इन सभी Search Engines में कोई User अपने लिए कुछ भी सर्च करता है तो हमे सबसे बेस्ट रिजल्ट दिहता है ये बेस्ट रिजल्ट किस कारण आया इसका जबाब है SEO (Search Engine Optimization).

आपको शायद नहीं पता होगा की Google अच्छे रिजल्ट देने के लिए 200 से भी अधिक Tools का उपयोग करता है. Google चाहता है एक user को सबसे सटीक रिजल्ट मिले। इसी प्रकार बोहोत सारे ऐसे प्रश्न भी हमारे दिमाग में उठते है जिनका जबाब ढूढने के लिए हमने Google करना ही पड़ता है. अब तो आपको समज आ ही गया होगा की SEO कैसे काम करता है.

Website या Blog में SEO की आवश्यकता क्यों है।

हम आपको पहले ही बता चुके है की जिस Website या Blog में SEO जितना बेस्ट होगा। उस Website या Blog को सर्च इंजन में उतनी ही बढ़िया रैंक मिलती है। प्रत्येक Search Engine अपने अपने हिसाब ही ही वर्क करते है. सभी कार्यरत सर्च इंजन उन Website या Blog का SEO देखते हैं. इसी SEO के आधार पर ये सर्च इंजन आपको बेस्ट से बेस्ट रिजल्ट दिखाते है. Seo बेस्ट होगा तो रिजल्ट भी टॉप में आएगा।

अब आप सोच रहे होंगे की Search Engine Optimization कितने प्रकार के होते हैं।
वैसे तो हम आपको बता दे की SEO कई प्रकार के होते हैं। लेकिन इसको 2 प्रक्रियाओ से आसानी से समझा जा सकता हैं।

1.ऑन साइट पेज एसईओ (On Page SEO)

On Page seo इसका मतलब है कि कोई भी Website और Blog जो अपने ऑर्गेनिक ट्रैफिक (यानि Google से जो ट्रैफिक आता है) को पहले पेज पर सर्च रिजल्ट दिखाता है उसे on Page SEO कहा जाता है। या हम सरल भाषा में कहें तो वेबसाइट पर पोस्ट लिखते समय जो भी जरूरी चीजे होती है उसका ध्यान रखना on Page SEO कहा जाता है। वैसे प्रत्येक नए ब्लॉगर को On Page Seo करना बहुत जरूरी होता है। इसमें क्या क्या शामिल है चलिए पता करते है-

• Keyword Research:- आपको तो पता ही है की किसी भी पोस्ट को सर्च इंजन में रैंक करवाने का पूरा श्रेय कीवर्ड का ही होता है। इसके लिए गूगल पर कई Keyword Research टूल मिल जाएंगे।

• तकनीकी संपादन (Technical editing) :- टेक्निकल एडिटिंग भी इसमें अपना अच्छा रोल अदा करता है. इसी के कारण वेबसाइट या ब्लॉग क्रॉल होता है और सर्च इंजन में वेब पेज को इंडेक्स किया जाता है साथ ही किसी भी प्रकार की आंतरिक एरर को भी दुरुस्त किया जा सकता है ।

• ऑन साइट ऑप्टिमाइजेशन (On Site Optimization): – इसमें अपने ब्लॉग या वेबसाइट को ठीक से रेडी करना होता है मेरा मतलब है डिजाइन करना होता है. जिससे यूजर को उसकी आवश्यकता अनुसार चीजें जैसे सर्च महत्वपूर्ण किटोगेरी, आइकन, मेनू नेविगेशन , ब्लॉग संरचना, आदि मिल सके।

2.ऑफ साइट पेज एसईओ (Off Site Page Seo)

इसमें वेबसाइट की डिज़ाइन से मतलब होता है. आपके ब्लॉग में अच्छे इंटरनल लिंक बने होने चाहिए, वैसे ब्लॉग या वेबसाइट के सभी पेज नॉर्मली ऑफ पेज एसईओ द्वारा निर्धारित किए जाते हैं। आपको पता होना चाहिए की On Page Seo के साथ ही Off Page Seo भी सेट करना जरुरी होता है, अगरआपने दोनों Setting अच्छी कर दी तो आपकी वेबसाइट या Blog जल्दी रैंक करने लग जाता है।

• सामग्री (Content) :- सभी वेबसाइट या ब्लॉग में सबसे महत्वपूर्ण उनके लिखे गए कंटेंट होते है. आप जितना बेस्ट कंटेंट लिखेंगे, उतने ही विजिटर उस कंटेंट पर विजिट करेंगे।

• बैक लिंक (Back link) – हर नए वेबसाइट या ब्लॉग को रैंक करने के लिए बैक लिंक्स काफी उपयोगी सिद्ध होते हैं। इनकी मदद से हम अपने नए ब्लॉग को गूगल में रैंक करवा सकते हैं, लेकिन हम इस बात का ध्यान रखना है की बेकार बैक लिंक्स नहीं बनाने हैं अगर आप ऐसा करते है तो उसका आपके ब्लॉग पर बुरा असर पड़ता है. अच्छे बैक लिंक्स बनाने के लिए अच्छी वेबसाइट पर अपना खुद का बैक लिंक्स बना लें. इससे आपको काफी फायदा होगा।

अंत में –

तो दोस्तों मुझे पूरी उम्मीद है कि आपको मेरी ये SEO Kya Hai से सम्बंधित जानकारी पसंद आई होगी। यदि आप SEO (Search Engine Optimization) अधिक जानकारी लेना चाहते हैं, तो आप हमारे ब्लॉग पर रोजाना विजिट करते रहे.

Leave a Comment